बुधवार, 3 जून 2009

बाल कहानी : दानव और बकरे

जंगल के पास एक गांव था। गांव के किनारे से एक नदी बहती थी। नदी पर एक पुल था। पुल के नीचे एक दानव रहता था।

जंगल में तीन बकरे चर रहे थे। सबसे बड़े बकरे ने सबसे छोटे बकरे से कहा, "नदी के पार गांव के खेतों में खूब फल-सब्जी उगे हुए हैं। उनकी महक यहां तक आ रही है। जा पुल पर से नदी पार करके उन्हें खा आ।"

छोटा बकरा पुल पार करने लगा। जब वह पुल के बीच तक पहुंच गया तो दानव पुल के ऊपर चढ़ आया और अपने बड़े-बड़े खांग और नाखून दिखाकर नन्हे बकरे को डराते हुए बोला, "मुझे बड़ी भूख लगी है। मैं तुझे खा जाऊंगा।"

डर से कांपते हुए नन्हा बकरा बोला, "मुझे मत खाओ दानव। मैं बहुत छोटा हूं। मुझसे तुम्हारी भूख नहीं मिटेगी। मेरे दो बड़े दोस्त हैं। वे अभी इसी ओर आने वाले हैं। उन्हें खा लो।"

दानव बड़े बकरों को खाने के लालच में आ गया। बोला, "अच्छा तू जा। मैं बड़े बकरों का इंतजार करूंगा।"

नन्हा बकरा सिर पर पांव रखकर वहां से भागा और गांव के खेत में पहुंचकर ताजा फल-सब्जी खाने लगा।

सबसे बड़े बकरे ने तब मंझले बकरे से कहा, "अब तू पुल पर से गांव की ओर जा।"

मंझला बकरा पुल पार करने लगा। जब वह पुल के बीच पहुंचा तो दानव ऊपर चढ़ आया और अपने खांग और नाखून से उसे डराते हुए बोला, "मुझे बड़ी भूख लगी है। मैं तुझे खा जाऊंगा।"

मझले बकरे ने कहा, "मुझे जाने दो दानव। मैं अभी छोटा ही हूं। मुझसे तुम्हारी भूख नहीं मिटेगी। अभी मेरा एक दोस्त आनेवाला है। वह मुझसे बहुत बड़ा है। उसे खा लो।"

दानव बोला, "अच्छा तू जा।"

मझला बकरा वहां से भागकर नन्हे बकरे के पास पहुंच गया।

अब बड़ा बकरा पुल पार करने लगा। वह खूब मोटा और तगड़ा था। उसके चलने से पुल चरमरा उठा। उसके सींग लंबे और खूब नुकीले थे।

जब वह पुल के बीच पहुंचा तो दानव एक बार फिर पुल के ऊपर चढ़ आया और अपने खांग और नाखून से उसे डराते हुए बोला, "मुझे बड़ी भूख लगी है। मैं तुझे अभी खा जाऊंगा।"

पर बड़ा बकरा जरा भी नहीं डरा। उसने अपने अगले पांवों से जमीन कुरेदते हुए हुंकार भरी और सिर नीचा करके दानव के पेट पर अपने सींगों से जोर से प्रहार किया। दानव दूर नदी में जा गिरा। अब बड़ा बकरा इत्मीनान से पुल पार कर गया और अपने दोनों साथियों के पास पहुंचकर मनपसंद भोजन करने लगा।

4 Comments:

गिरिजेश राव, Girijesh Rao said...

ये बताइए कि यह कहानी किस उम्र के बच्चे के लिए है?

बालसुब्रमण्यम लक्ष्मीनारायण said...

गिरिजेश: बुहत नन्हे बच्चों के लिए। 4-6 वर्ष उम्र के बच्चों के लिए। मैंने यह कहानी अपनी दोनों बेटियों को सुनाई है जब वे इस उम्र के थे। उन्हें यह कहानी बहुत अच्छी लगी, और "फिर से" की बहुत मांग हुई। अन्य बच्चों को भी मैंने यह कहानी सुनाई है। सबको पसंद आई।

कमजोर का जीतना और आततायी का हारना बच्चों को शायद बहुत अच्छा लगता है। क्योंकि वे स्वयं हमारे समाज के सबसे कमजोर तबके में आते हैं। शायद इसलिए वे इस कहानी से आसानी से रिलेट कर पाते हैं। वैसे देखा जाए, अनेक बाल कहानियों का स्ट्रक्चर इसी तरह का होता है, कमजोर की ताकतवर पर विजय।

यह कहानी मैंने किसी अमरीकी रेडियो स्टेशन के बाल कार्यक्रम में सुनी थी।

yaad virk said...

Nice story

paris here said...

StripChat presents you with the chance to talk and socialize with different sexy teenage models located around the globe. An account must converse with most versions, which means that you are going to have to experience an email confirmation procedure to find that installation,
https://www.smore.com/2scpr-stripchat-live-chat-reviews-2020

 

हिन्दी ब्लॉग टिप्सः तीन कॉलम वाली टेम्पलेट